August 26, 2011

(मेरा) झंड लोकपाल बिल!

आज कल हर कोई अपना बिल ले के आ रहा है| कल हमारी पार्लियामेंट में उन सभी की चर्चा होनी है| तो आनन् फानन में मैंने भी एक बिल तैयार किया है:
India Corruption / Hundreds Held Over Hazare Protest
मेरा बिल भी लाओ! (Taken from Flickr under CC license)

१. प्रधानमंत्री को जनता के दाएरे में लाया जाए| बल्कि मैं तो कहता हूँ की पडोसी देशो के प्रधानमंत्री भी हमारे दायरे में होने चाहियें| उनका ईमेल और ट्विटर/फेसबुक अकाउंट सार्वजनिक किया जाए| २ दिन के अन्दर जवाब न मिलने पर उन्हें तकनीकी रूप से सक्षम ना होने के कारण हटा दिया जाए| राहुल जी को जल्दी से जल्दी पीऍम बनाया जाए|

२. लोअर ही नहीं लोएस्ट ब्यूरोक्रेसी भी लोकपाल के अन्दर आये| वो गेट पर खड़े चोकीदार अंकल और डॉक्टर की दूकान पर कंपाउंडर  अंकल भी कई बार हीरो बनने की चेष्टा करते हैं| टीचर ही नहीं लैब अस्सिस्तंत की भी झंड होनी चाहिए|

३. बिजली वाले अंकल जितनी देर बिजली काटें उनके घर भी उतनी देर की बिजली कटौती होनी चाहिए, तब उनकी भी झंड होगी| साला, जब मन करता है बिजली उड़ा देते हैं X(

४. ये इन्टरनेट वाले अंकल भी कई बार बहुत ही झंड स्पीड देते हैं| १० मिनट में प्रॉब्लम सही ना होने पर उनकी घर के कनेक्शन की स्पीड हमें मिलनी चाहिए (और पाईरेसी पूरी तरह वैध करार दी जानी चाहिए)|

५. जोइनिंग डेट जल्दी ना मिलने पर आधी कंपनी हमारे नाम कर देनी चाहिए|

६. सारी अदालतें लोकपाल के घेरे में होनी चाहिए| इससे अगर फैसला हमारे हक़ में ना आये तो उन अदालतो को भ्रष्ट बता कर उनकी भी झंड कर दी जाए|

७. देश के हर एक धर्मं, जाति, पंथ, लिंग, क्षेत्र आदि का प्रतिनिधि लोकपाल में शामिल होना चाहिए| और कोटा तो हर हाल में लागु होना चाहिए (चाहे कट ऑफ कितनी भी गिरानी पड़े, परवाह नहीं)|

८. बीसीसीआई भी लोकपाल के दायरे में आनी चाहिए| अगर वो आने इनकार करे तो जबरदस्ती करनी चाहिए| जिसने देश की क्रिकेट के शोषण किया हो उसका खुद भी तो शोषण जरूरी है?

९. लोकपाल को स्विस बैंक से काला धन वापस लाना चाहिए| काला धन ना मिले तो गोरा वाला ही उठा लाना चाहिए| अगर वो भी ना मिले स्विस बैंक का खुद का धन उठा लायें| हमें तो भाई धन से मतलब है|

१०. सारी फ़ोन कंपनियों के सीइओ के फ़ोन नंबर सार्वजनिक किये जाएँ| जिसेस जनता उनकी कंपनियों से आने वाले फालतू फ़ोन और मेसेज उनके खुद के नंबर पर फॉरवर्ड कर पाए| तब उन्हें पता चलेगा की खुंदक क्या चीज़ होती है|

नोट: इस बिल का किसी भी पार्टी विशेष से लेना देना नहीं है| यह पूरी तरह से काल्पनिक है|